7/30/2014

बेमानी



जब मन उदास होता है, 
कुछ ना खास होता है 

बेचैनी रहती है एक अजीब सी 
न भूख सी न प्यास सी 

सावन में तरसते चातक सी
दशा हो जाती हैं 

हर इच्छा मर जाती हैं 
आँखें रोती जाती हैं

दिल भारी होने लगता है
जीना बेमानी लगता है

अब जीना बेमानी लगता हैं।।

6 comments:

Puneet Jain 'Chinu' said...

Jeena bemani to tab hota hai.. jab insaan khud ko akela mehsus karta hai..

Khud ki aatma or jindgi se prem karo.. Beemani nahi lagega

Vaisshali said...

yeh to bass ek kavita hai, tujhe lagta hai meri life mein aisa kuch hoga...

thanks..waise yaad rakhungi , jab kabhi bemaani laga to

anuj kumar said...

आपने जो शीर्षक रखा बहुत ही लाजबाब रखा

Vaisshali said...

Thanks Anuj Kumar

Dr. Dhirendra Srivastava said...

सावन में तरसते चातक सी
दशा हो जाती हैं ..achchha prateek..Vaisshali..

Vaisshali said...

hausla afzai ka shukriya Dr Dhirendra ji